साथी

Twit-Bit

Sunday, 28 March, 2010

कल : एक ग़ज़ल

ज़िन्दगी  कल   रही, रही - न  रही !
बात का क्या कही, कही - न कही !

आँख में रोक मत ये दिल का ग़ुबार
कल ये गंगा  बही,  बही - न बही !

मैल दिल का हटा, उठा न दीवार
कल किसी से ढही, ढही - न ढही !

तेरी कुर्सी को सब हैं नतमस्तक
कल किसी ने सही, सही - न सही

अहम्  की  आज  फूँक  दे   लंका
कल ये तुझसे दही, दही - न दही !

हिमान्शु मोहन
इब्तिदा-आग़ाज़-शुरूआत-पहल

7 comments:

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

एकहार्ट टॉले की पुस्तक The Power of Now मानो कविता में साकार हो गयी हो!
बहुत सुन्दर। सोचने को बाध्य करती। !

शारदा अरोरा said...

बहुत अच्छे , बात कही ,कही न कही

सुखनवर , विचार कॉपी कर लेना ....ये भी खूब रही चोरी करेंगे पर कह कर |हमें भी पता है कि उधर एक कवि की यानि अपनी ही बिरादरी की रूह है |आपने बेबाक होकर अपने विचार रखे ,अच्छा लगा , अपना दिल भी तगड़ा हुआ , धन्यवाद |

राकेश कौशिक said...

अति सुंदर - सभी शेर सार्थक एवं भावपूर्ण - बधाई

Dimps said...

Good job!

आँख में रोक मत ये दिल का ग़ुबार
कल ये गंगा बही, बही - न बही !

I liked the above lines... the most!

Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

anjana said...

बहुत सुन्दर रचना...

आप मेरे ब्लांक पर आये और टिप्पणी की इस के लिए आप का धन्यवाद ।

ज्योति सिंह said...

ज़िन्दगी कल रही, रही - न रही !
बात का क्या कही, कही - न कही
shaandaar rachna

kumar zahid said...

एक सौ तीन वर्षीय युवा प्रतिभा को मेरा सलाम !

भई कमाल का लिखते हैं आप

आँख में रोक मत ये दिल का ग़ुबार
कल ये गंगा बही, बही - न बही !

और अंततः जिन्दगी छोटी हो या बड़ी, सचाई यही है कि
अहम् की आज फूँक दे लंका
कल ये तुझसे दही, दही - न दही !

हिमांशु भाई! आते रहिए ,